कांग्रेस में पहुंचे गोडसे भक्त 'बाबूलाल' तो हुआ बवाल

बाबूलाल चौरसिया ग्वालियर के वही नेता हैं जिन्होंने 15 नवंबर 2017 को नाथूराम गोडसे का मंदिर बनाया था और गोडसे की आरती की थी।

कांग्रेस में पहुंचे गोडसे भक्त 'बाबूलाल' तो हुआ बवाल

भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस में बवाल मचा हुआ है। क्योंकि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ कांग्रेस में महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे के 'भक्त' को लाने को लेकर फंस गए हैं। बाबूलाल चौरसिया बुधवार को ग्वालियर में कांग्रेस में शामिल हो गए। बाबूलाल चौरसिया ग्वालियर के वही नेता हैं जिन्होंने 15 नवंबर 2017 को नाथूराम गोडसे का मंदिर बनाया था और गोडसे की आरती की थी। इसके बाद कांग्रेस ने इसका जमकर विरोध किया था और बाबूलाल पर कार्यवाही की मांग की थी।

कुछ समय पहले बाबूलाल चौरसिया की एक तस्वीर बहुत वायरल हुई थी, जिसमें वह सिर पर हिंदू महासभा की भगवा टोपी, हाथ में आरती थाल और सामने बापू का मर्डर करने वाले हिंदू नेता की पूजा कर रहे हैं। लेकिन अब गोडसे के भक्त ने चोला बदल लिया है। वहीं कांग्रेस जो गांधीवाद का सबसे बड़ा समर्थक बताती है। उसने ही बाबूलाल को पार्टी में शामिल कराया है। 

कल ही मध्य प्रदेश कांग्रेस ने ट्वीट किया और कहा, 'हिंदू महासभा के नेता कांग्रेस में शामिल हो गए, ग्वालियर के वार्ड 44 के पार्षद और हिंदू महासभा के नेता बाबूलाल चौरसिया आज कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ की उपस्थिति में कांग्रेस में शामिल हुए।' वहीं बाबूलाल चौरसिया का कहना है कि वह एक जन्मजात कांग्रेसी हैं, हिंदू महासभा ने उन्हें अंधेर में रखकर गोडसे की पूजा कराई थी।