राजस्थान में फिर गहलोत सरकार पर संकट! पायलट गुट के विधायक ने दी इस्तीफे की धमकी

कांग्रेस विधायक रमेश मीणा ने कहा कि मैंने राहुल गांधी से मिलने का समय मांगा है और अगर वह समय नहीं देते हैं तो वह इस्तीफा दे देंगे।

राजस्थान में फिर गहलोत सरकार पर संकट!  पायलट गुट के विधायक ने दी इस्तीफे की धमकी

जयपुर। राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार के सामने एक बार फिर संकट पैदा हो गया है। क्योंकि कांग्रेस विधायक और सचिन पायलट गुट के विधायक ने पार्टी से इस्तीफा देने की धमकी दी है। विधायक ने अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के विधायकों की अनदेखी का आरोप लगाया है। नाराज विधायक ने कहा कि अपनी नाराजगी बताने के लिए राहुल गांधी से समय मांगा है, अगर नहीं मिला तो वह विधायक का पद छोड़ देंगे।

जानकारी के मुताबिक बर्खास्त मंत्री रमेश मीणा, जो सचिन पायलट के करीबी हैं, ने भी सवाल उठाया है कि अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के साथ भेदभाव क्यों किया जा रहा है। राज्य विधानसभा में माइक के बिना पीछे की सीट पर दलित और आदिवासी विधायकों के बैठने पर सवाल किया है। रमेश मीणा ने कहा कि राज्य में एससी-एसटी के मंत्री हैं और उनके साथ भेदभाव किया जा रहा है।

वहीं कांग्रेस विधायक रमेश मीणा ने कहा कि मैं मंत्री नहीं बनना चाहता, मैं कांग्रेस के साथ हूं। मीणा ने कहा कि जिसने सरकार बनाई है, उसे नजरअंदाज क्यों किया जा रहा है। रमेश मीणा ने कहा कि मैं मंत्री नहीं बनना चाहता, लेकिन पूर्वी राजस्थान को कैबिनेट में जगह मिलनी चाहिए।

यह खबर भी पढ़ें-  हो गई है गहलोत-पायलट में सियासी सुलह! एक साथ करेंगे चुनावी रैली

राहुल गांधी से मिलने के लिए मांगा समय

कांग्रेस विधायक रमेश मीणा ने कहा कि मैंने राहुल गांधी से मिलने का समय मांगा है और अगर वह समय नहीं देते हैं तो वह इस्तीफा दे देंगे। वहीं एक और कांग्रेस विधायक मुरारी लाल मीणा आरोप लगाया कि एसटी-एससी विधायकों के साथ भेदभाव किया जा रहा था। ट्रांसफर पोस्टिंग पर भेदभाव का आरोप लगाते हुए मुरारी लाल मीणा ने कहा कि एसटी-एससी और अल्पसंख्यक कांग्रेस की रीढ़ है, लेकिन उस रीढ़ को लगातार कमजोर किया जा रहा है।