बंगाल में आठ चरणों में होंगे विधानसभा चुनाव, पर क्यों घबरा रही हैं दीदी!

ममता बनर्जी ने चुनाव आयोग पर एक बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने भाजपा के इशारे पर 8 राउंड में चुनाव कराने का फैसला किया है।

बंगाल में  आठ चरणों में होंगे विधानसभा चुनाव, पर क्यों घबरा रही हैं दीदी!

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में चुनाव आयोग ने 8 राज्यों में मतदान की घोषणा की है। लेकिन अब इसको लेकर राज्य के मुख्यमंत्री ने इस पर आपत्ति जताई है। उन्होंने कहा कि असम में केवल 3 राउंड में मतदान होगा। इसके अलावा एक चरण में तीन राज्यों में वोटिंग होगी, जबकि पश्चिम बंगाल में 8 राउंड में वोटिंग होगी। यह गलत बात है। चुनाव आयोग की घोषणा के तुरंत बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोलते हुए, ममता बनर्जी ने कहा कि पश्चिम बंगाल में, आयोग ने एक ही जिले में दो या तीन राउंड में मतदान करने का फैसला किया है। वहीं चुनाव आयोग ने कहा कि हर किसी वह खुश नहीं कर सकता है।

ममता बनर्जी ने चुनाव आयोग पर एक बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने भाजपा के इशारे पर 8 राउंड में चुनाव कराने का फैसला किया है। बीजेपी ने उन्हें जो बताया है वह चुनाव आयोग ने किया है। ममता बनर्जी ने कहा कि अन्य राज्यों की तरह पश्चिम बंगाल में एक ही गिनती में मतदान क्यों नहीं हो रहा है। इस दौरान ममता बनर्जी ने बांग्ला कार्ड खेलते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल में केवल एक बंगाली ही शासन करेगा। आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल में वोटिंग हमेशा कई चरणों में होती रही है। वहीं 2016 के विधानसभा चुनाव भी 7 चरणों में हुए थे।

ममता बनर्जी ने कहा कि केंद्र सरकार इस चुनाव के लिए अपनी शक्ति का उपयोग नहीं कर सकती है। हम अपनी लड़ाई लड़ेंगे। हम चुनाव आयोग से चुनाव में धन का दुरुपयोग रोकने के लिए कहेंगे। ममता बनर्जी ने सीधे मोदी पर हमला किया और कहा कि आप(पीएम मोदी) अपनी शक्ति का उपयोग पीएम के रूप में कर सकते हैं, लेकिन बीजेपी नेता के रूप में ऐसा नहीं करें। ममता बनर्जी ने कहा कि अगर आप सोचते हैं कि आप पश्चिम बंगाल को दबा देंगे, तो हम नहीं देंगे। हम भगोड़े नहीं हैं बल्कि हम लोग जमीनी स्तर के लोग हैं।

ममता बनर्जी ने पूछा कि एक ही जिले में 2 या 3 चरणों में मतदान क्यों हो रहा है। ममता बनर्जी ने कहा कि हम 25 दक्षिण परगना में मजबूत हैं और इसीलिए वहां तीन राउंड में जानबूझकर वोट देने का फैसला किया गया है।

डरी हुई हैं दीदी

असल में ममता बनर्जी चुनाव के चरणों को लेकर डरी हुई हैं। क्योंकि आमतौर पर ज्यादा चरणों के चुनाव में बीजेपी को जीत मिली है। जबकि पश्चिम बंगाल को लेकर चुनाव आयोग भी काफी सख्त है। क्योंकि पश्चिम बंगाल में चुनाव के दौरान हिंसा होना आम बात है। लिहाजा ज्यादा चरणों में चुनाव कराने का मकसद जिलों में ज्यादा से  ज्यादा सुरक्षा कर्मी उपलब्ध कराना है।