कमलनाथ के बाबूलाल ने कांग्रेस में मचाया धमाल

राज्य कांग्रेस के अध्यक्ष उनके विरोधी जमकर निशाना साध रहे हैं। इससे पहले पूर्व केंद्रीय मंत्री और पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने भी इस पर आपत्ति जताई थी।

कमलनाथ के बाबूलाल ने कांग्रेस में मचाया धमाल

भोपाल। गोड़से भक्त और वर्तमान में कांग्रेस का हाथ थाम चुके बाबूलाल से एमपी कांग्रेस में बवाल मचा हुआ है। राज्य कांग्रेस के अध्यक्ष उनके विरोधी जमकर निशाना साध रहे हैं। इससे पहले पूर्व केंद्रीय मंत्री और पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने भी इस पर आपत्ति जताई थी। उन्होंने कहा कि देश के सभी बड़े नेता कहते हैं कि देश का पहला आतंकवादी नाथूराम गोडसे था। आज वे सभी गोडसे उपासकों के कांग्रेस में शामिल होने के बारे में चुप क्यों हैं? उन्होंने इस विवाद में भोपाल से सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर का भी जिक्र किया और कहा कि अगर यही स्थिति बनी रही तो भविष्य में भोपाल के सांसद प्रज्ञा ठाकुर भी कांग्रेस में आएंगी।

वहीं अब अरुण यादव के बाद वरिष्ठ नेता और चांचौड़ा के विधायक लक्ष्मण सिंह ने भी बाबूलाल चौरसिया के कांग्रेस में प्रवेश का विरोध किया है। शुक्रवार शाम एक ट्वीट में, लक्ष्मण सिंह ने लिखा कि 'केंद्रीय जेल गोडसे के उपासकों के लिए उपयुक्त स्थान है, न कि कांग्रेस पार्टी के लिए। बाबूलाल चौरसिया की कांग्रेस में गोडसे की आरती में प्रवेश का विरोध करते हुए, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के भाई और विधायक लक्ष्मण सिंह ने कहा है कि गोडसे कांग्रेस के बजाय उपासकों के बजाय जेल में हैं।

गौरतलब है कि गोड़से का मंदिर बनाने वाले और पूजा करने वाले बाबूलाल चौरसिया बुधवार को पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की उपस्थिति में ग्वालियर में कांग्रेस में शामिल हो गए। यह वही बाबूलाल चौरसिया हैं, जिन्होंने 15 नवंबर 2017 को नाथूराम गोडसे का मंदिर बनाया था और गोडसे की आरती की थी। जिसको लेकर काफी विवाद हुआ था।

कांग्रेस के पूर्व मंत्री ने किया स्वागत

दूसरी ओर कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे उमंग सिंघार ने एक ट्वीट में लिखा कि गांधी परिवार ने इंदिराजी और राजीवजी के हत्यारों को माफ कर दिया था, अगर गांधीजी जीवित होते तो वे गोडसे को भी माफ कर देते।