गुजरात निकाय चुनाव में बीजेपी ने किया कांग्रेस का सूपड़ा साफ, विधायकों के बेटों को मिली हार

गुजरात स्थानीय निकाय चुनाव परिणाम में बीजेपी को बड़ी जीत मिली है। राज्य में बीजेपी ने 31 में से 31 जिला पंचायतों में जीत हासिल की है। वहीं, 81 नगरपालिकाओं में बीजेपी ने 79 पर जीत दर्ज की। कांग्रेस किसी भी जिला जिला पंचायत में अपना खाता नहीं खोल सकी है।

गुजरात निकाय चुनाव में बीजेपी ने किया कांग्रेस का सूपड़ा साफ, विधायकों के बेटों को मिली हार

अहमदाबाद। गुजरात (Gujarat) में हुए स्थानीय निकाय चुनावों में राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी भाजपा को बंपर जीत मिली है। जहां बीजेपी अपनी जीत को लेकर उत्साहित है वहीं कांग्रेस खेमे में निराशा है। गुजरात प्रदेश कांग्रेस की परेशानी का कारण यह भी है कि हारने वाले उम्मीदवारों में 7 विधायकों के बेटे भी हैं। गुजरात में 28 फरवरी को मतदान के बाद, 81 नगरपालिकाओं, 31 जिला पंचायतों और 231 तालुका पंचायतों के चुनाव में बड़े नेताओं की प्रतिष्ठा दांव पर थी।

अभी तक जो आंकड़े सामने आए हैं उसके मुताबिक बीजेपी ने राज्य में एकतरफा जीत हासिल की है। आज आए नतीजों में सत्तारूढ़ भाजपा ने 31 में से 31 जिला पंचायतों में जीत दर्ज की है। वहीं, 81 नगरपालिकाओं में बीजेपी ने 79 पर जीत दर्ज की। कांग्रेस किसी भी जिला पंचायत में खाता नहीं खोल सकी है। वहीं नगर पालिका की बात करें तो इसने केवल 2 स्थानों पर कांग्रेस ने जीत दर्ज की है। वहीं, तालुका पंचायत के मामले में, भाजपा के 198 सीटों पर जीत दर्ज की है जबकि कांग्रेस महज 33 सीटों पर जीत सकी है।

पीएम ने जताया आभार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पार्टी की भारी जीत के लिए राज्य के लोगों को धन्यवाद दिया है। पीएम ने अपने ट्वीट में लिखा, 'गुजरात के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों ने सर्वसम्मति से विकास को मंजूरी दी है। सरकार के जनहित कार्यों ने लोगों के दिलों में जगह बनाई है, बीजेपी कार्यकर्ताओं की मेहनत रंग लाई है। 

बीजेपी ने बनाई थी रणनीति

राज्य में बीजेपी ने एक विशेष रणनीति तैयार की गई थी। वहीं, इसे संयोग ही कहा जाएगा कि बीजेपी ने ने इस चुनाव में मौजूदा जनप्रतिनिधियों के बेटे-बेटियों को टिकट नहीं देने का फैसला किया था।

यह भी पढ़ें:- गुजरात की 81 नगरपालिकाओं और 31 जिला पंचायतों के नतीजे आज

कांग्रेस नेताओं को झटका!

हाल के नागरिक चुनावों में सबसे बड़ा झटका आनंद जिले के पेटलाद से तीन बार के कांग्रेस विधायक निरंजन पटेल को लगा है। पेटलाद नगरपालिका के वार्ड नंबर दो और पांच से हार गए हैं। उसी नगरपालिका में उनके बेटे सौरभ पटेल को भी भाजपा के हाथों करारी हार का सामना करना पड़ा।

कांग्रेस के इन विधायकों के बेटों को मिली हार

आनंद के सोजित्रा से कांग्रेस विधायक पूनमभाई परमार के बेटे विजय परमार भी भाजपा प्रत्याशी से तारापुर तालुका पंचायत की मोरज सीट से हार गए, जबकि उनके भतीजे निकुंज परमार भी हार गए। खेड़ब्रह्म से कांग्रेस विधायक अश्विन कोतवाल के बेटे यश कोतवाल, साबरकांठा के एक आदिवासी विजयनगर तालुका पंचायत के चैतरिया से भी हार गए हैं।